106 KUREYŞ

  • 106:1

    कितना है क़ुरैश को लगाए और परचाए रखना,

  • 106:2

    लगाए और परचाए रखना उन्हें जाड़े और गर्मी की यात्रा से

  • 106:3

    अतः उन्हें चाहिए कि इस घर (काबा) के रब की बन्दगी करे,

  • 106:4

    जिसने उन्हें खिलाकर भूख से बचाया और निश्चिन्तता प्रदान करके भय से बचाया

Paylaş
Tweet'le