85 BURUC

  • 85:1

    साक्षी है बुर्जोंवाला आकाश,

  • 85:2

    और वह दिन जिसका वादा किया गया है,

  • 85:3

    और देखनेवाला, और जो देखा गया

  • 85:4

    विनष्ट हों खाईवाले,

  • 85:5

    ईधन भरी आगवाले,

  • 85:6

    जबकि वे वहाँ बैठे होंगे

  • 85:7

    और वे जो कुछ ईमानवालों के साथ करते रहे, उसे देखेंगे

  • 85:8

    उन्होंने उन (ईमानवालों) से केवल इस कारण बदला लिया और शत्रुता की कि वे उस अल्लाह पर ईमान रखते थे जो अत्यन्त प्रभुत्वशाली, प्रशंसनीय है,

  • 85:9

    जिसके लिए आकाशों और धरती की बादशाही है। और अल्लाह हर चीज़ का साक्षी है

  • 85:10

    जिन लोगों ने ईमानवाले पुरुषों और ईमानवाली स्त्रियों को सताया और आज़माईश में डाला, फिर तौबा न की, निश्चय ही उनके लिए जहन्नम की यातना है और उनके लिए जलने की यातना है

  • 85:11

    निश्चय ही जो लोग ईमान लाए और उन्होंने अच्छे कर्म किए उनके लिए बाग़ है, जिनके नीचे नहरें बह रही होगी। वही है बड़ी सफलता

  • 85:12

    वास्तव में तुम्हारे रब की पकड़ बड़ी ही सख़्त है

  • 85:13

    वही आरम्भ करता है और वही पुनरावृत्ति करता है,

  • 85:14

    वह बड़ा क्षमाशील, बहुत प्रेम करनेवाला है,

  • 85:15

    सिंहासन का स्वामी है, बडा गौरवशाली,

  • 85:16

    जो चाहे उसे कर डालनेवाला

  • 85:17

    क्या तुम्हें उन सेनाओं की भी ख़बर पहुँची हैं,

  • 85:18

    फ़िरऔन और समूद की?

  • 85:19

    नहीं, बल्कि जिन लोगों ने इनकार किया है, वे झुठलाने में लगे हुए है;

  • 85:20

    हालाँकि अल्लाह उन्हें घेरे हुए है, उनके आगे-पीछे से

  • 85:21

    नहीं, बल्कि वह तो गौरव क़ुरआन है,

  • 85:22

    सुरक्षित पट्टिका में अंकित है

Paylaş
Tweet'le