92 LEYL

  • 92:1

    साक्षी है रात जबकि वह छा जाए,

  • 92:2

    और दिन जबकि वह प्रकाशमान हो,

  • 92:3

    और नर और मादा का पैदा करना,

  • 92:4

    कि तुम्हारा प्रयास भिन्न-भिन्न है

  • 92:5

    तो जिस किसी ने दिया और डर रखा,

  • 92:6

    और अच्छी चीज़ की पुष्टि की,

  • 92:7

    हम उस सहज ढंग से उस चीज का पात्र बना देंगे, जो सहज और मृदुल (सुख-साध्य) है

  • 92:8

    रहा वह व्यक्ति जिसने कंजूसी की और बेपरवाही बरती,

  • 92:9

    और अच्छी चीज़ को झुठला दिया,

  • 92:10

    हम उसे सहज ढंग से उस चीज़ का पात्र बना देंगे, जो कठिन चीज़ (कष्ट-साध्य) है

  • 92:11

    और उसका माल उसके कुछ काम न आएगा, जब वह (सिर के बल) खड्ड में गिरेगा

  • 92:12

    निस्संदेह हमारे ज़िम्मे है मार्ग दिखाना

  • 92:13

    और वास्तव में हमारे अधिकार में है आख़िरत और दुनिया भी

  • 92:14

    अतः मैंने तुम्हें दहकती आग से सावधान कर दिया

  • 92:15

    इसमें बस वही पड़ेगा जो बड़ा ही अभागा होगा,

  • 92:16

    जिसने झुठलाया और मुँह फेरा

  • 92:17

    और उससे बच जाएगा वह अत्यन्त परहेज़गार व्यक्ति,

  • 92:18

    जो अपना माल देकर अपने आपको निखारता है

  • 92:19

    और हाल यह है कि किसी का उसपर उपकार नहीं कि उसका बदला दिया जा रहा हो,

  • 92:20

    बल्कि इससे अभीष्ट केवल उसके अपने उच्च रब के मुख (प्रसन्नता) की चाह है

  • 92:21

    और वह शीघ्र ही राज़ी हो जाएगा

Paylaş
Tweet'le